12 साल बाद इस महिला ने बेटे को दिया था जन्म, मकान गिरा तो हुई दर्दनाक मौत

12 साल बाद इस महिला ने बेटे को दिया था जन्म, मकान गिरा तो हुई दर्दनाक मौत

By: Sudakar Singh
January 11, 10:01
0
..............

Bhagalpur : घर से सटी खाली जमीन में जेसीबी से नींव की खुदाई की जा रही थी, इससे घर की दीवारों में दरार पड़ गई और क्षण भर में ही दो मंजिला मकान जमींदोज हो गया। मलबे में दब कर एक महिला की मौके पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि 12 साल बाद 20 दिन पहले ही महिला मां बनी थी। करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद मलबे से लाश को जैक लगा कर निकाला गया। हादसे में महिला के पति, नवजात बेटा और ससुर बाल-बाल बच गए। घटना बुधवार सुबह करीब तीन बजे की है।
 
जानकारी के अनुसार, सुखदेव, गोविंद शर्मा के घर के बगल में मकान का निर्माण करवा रहा था। उसने नगर निगम से जमीन का नक्शा भी पास नहीं कराया था। उसने गोविंद शर्मा की दीवार से बिल्कुल सटकर अपने मकान के लिए जमीन की सतह से 10 फीट नीचे फाउंडेशन के गड्ढा खुदवा दिया। वहां रातभर जेसीबी से गड्ढा खुदवाने का काम चलता था। गाेविंद शर्मा और उसके परिवार के लोगों ने मकान मालिक और ठेकेदार राम शर्मा से काम रोकने को कहा था। उनलोगों ने कहा था कि इससे उनका मकान गिर सकता है, लेकिन ठेकेदार की धमकी के डर से वे लोग चुप हो गए।
 
गोविंद शर्मा का दो मंजिला मकान ढहने में पड़ोसी जमीन मालिक सुखदेव मंडल, ठेकेदार राम शर्मा और जेसीबी ड्राइवर की लापरवाही बिल्कुल साफ है। रातभर ठेकेदार जेसीबी से जमीन में नींव की खुदाई करता था। इससे गोविंद का मकान कमजोर हो गया था। गोविंद, उसके पिता, चाचा आदि ने ठेकेदार और जमीन मालिक को काम करने से मना भी किया था। घरवालों ने कहा था कि खुदाई करने से पहले अपनी जमीन में चहारदीवारी बनवा ले। लेकिन ठेकेदार ने दबंगई दिखाई और धमकी दी कि काम रुका तो अंजाम बुरा होगा। ठेकेदार से डर से घरवाले चुप हो गए। गोविंद ने बताया कि मंगलवार रातभर जेसीबी लगा कर जमीन पर पिलर गाड़ने के लिए खुदाई की गई। उसके घर की नींव से अधिक गहरा गढ्ढा जमीन में खोदा गया। इससे दो मंजिला मकान कमजोर हो गया। घर की दीवार में दरार पड़ गई। जब तक हमलोग संभल पाते, पूरा मकान जमींदोज हो गया। गोविंद ने बताया कि उसकी आंखों के सामने पत्नी मलबे में दब गई और वह कुछ नहीं कर पाया।
 
गोविंद ने बताया कि उनकी शादी को 12 साल हो गए, लेकिन पत्नी को बच्चा नहीं हुअा था। 20 दिन पहले ही पत्नी को लड़का हुआ था। बेटे के जन्म की अभी खुशी भी नहीं मना पाए थे कि हादसे ने पत्नी को छीन लिया। सात जनवरी को बेटे की छट्ठी धूमधाम से मनाई थी। उन्होंने बताया कि पत्नी, बच्चा और पिता के साथ वे दूसरी मंजिल पर रहते हैं। एक कमरे में खाट पर पिता राम रतन शर्मा सोए थे, जबकि दूसरे कमरे में पत्नी और बच्चे के साथ गोविंद थे। मकान ढहने के कारण ग्राउंड फ्लोर के साथ-साथ गोविंद का कमरा पूरा तरह ढह गया। जिस कमरे में पिता राम रतन शर्मा सोए थे, वह कमरा आधा टूटा कर मलबे में तब्दील हो गया। मकान ढहने के बाद किसी तरह खाट पर सोए पिता को सुरक्षित बाहर निकाला।
 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments